कामदेव वशीकरण!स्त्री को सम्भोग के लिए कैसे मनाये

नोट- किसी भी समस्या का समाधान जाने गुरु जी से घर बैठे फोन पर कॉल करे –

एस्ट्रोलॉजी के अनुसार प्रेम और काम भावनाओं का कारक शुक्र ग्रह है और प्यार के देवता कामदेव माने गए हैं। अगर आप किसी को आकर्षित करना चाहते हैं या अपनी सेक्स पावर बढ़ाना चाहते हैं तो शुक्र एवं कामदेव को प्रसन्न करना चाहिए।

कौन है कामदेव?

कामदेव वशीकरण!स्त्री को सम्भोग के लिए कैसे मनाये हिंदू कथाओं के अनुसार कामदेव का जिक्र बहुत सारी जगहों पर होता हैं. इन्हें प्यार का देवता कहा जाता हैं. इसके अलावा कामदेव का वर्णन वेदों में भी हैं और ज्योतिष की माने तो यह शुक्र ग्रह का तारक होता हैं. कथाओं में कामदेव को युवा, आकर्षक छवि वाला दिखाया जाता हैं और कहा जाता है कि सुंदर, आकर्षक और युवा रहने के लिए इनकी पूजा की जाती हैं.

कामदेव मंत्र:-

‘ऊँ कामदेवाय विद्महे, रति प्रियायै धीमहि, तन्नो अनंग प्रचोदयात‍्।’

‘ऊँ नमो भगवते कामदेवाय यस्य यस्य दृश्यो भवामि यस्य यस्य मम मुखं पश्यति तं तं मोहयतु स्वाहा।’

स्त्री को सम्भोग के लिए कैसे मनाये

इसे करने से संभोग करने की शक्ति बढ़ जाती है, जिसका फायदा यह होता है लोगों की शादीशुदा जिंदगी बहुत अच्छी हो जाती हैं. इस मंत्र को करने से लिंग की ताकत भी बढ़ जाती हैं. आपकी महिला मित्र भी खुश रह सकती हैं. दोनों के बीच प्यार भी बढ़ जाता हैं.

शुक्र मंत्र (Shukra Mantra)

शुक्र मंत्र से बढ़ता है सौन्दर्य

मंत्र :- ॐ द्राँ द्रीँ द्रौँ स: शुक्राय नम:

– ॐ शं सम्मोहनाय फट्

वशीकरण मन्त्र (Vashikaran Mantra)

भगवान गणेश भी रूप सौन्दर्य के साथ आकर्षण शक्ति बढ़ाने वाले देवता हैं।

उनका वशीकरण का सुप्रसिद्ध मंत्र है-

।।ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं ग्लौं गं गणपतये वर वरदं सर्व जनं मे वशमानाय स्वाहा।।

कामदेव वशीकरण मंत्र

यह वह मंत्र है जिसकी मदद से आप किसी को भी अपनी ओर आकर्षित कर सकते है. अपना मनचाहा प्यार दिलाने वाला वह कामदेव वशीकरण मंत्र  है

‘ऊँ कामदेवाय विद्महे, रति प्रियायै धीमहि, तन्नो अनंग प्रचोदयात्’

इस मंत्र को करने से कामदेव आपके ऊपर प्रसन्न होते हैं. जिससे आप किसी को अपने काबू में कर सकते हैं.

इसके अलावा सेक्स की पावर बढ़ाने के लिए आप इस मंत्र का उपयोग कर सकते है, जो इस प्रकार हैं

‘ऊँ नमो भगवते कामदेवाय यस्य यस्य दृश्यो भवामि यस्य यस्य मम मुखं पश्यति तं तं मोहयतु स्वाहा’

इन मंत्रो को सुबह और शाम 108 बार जाप करना चाहिए. जब भी मंत्र करें तो एकांत में बैठकर करें और जिसके लिए यह मंत्र कर रहे है उसका ध्यान करते हुए करें.यह मंत्र आपको 21 दिनो तक करना होगा!

Scroll to Top
call now

Get Help Now

whatsapp now